PAHAR-14-15

Cover Page of PAHAR 14-15

Cover Page of PAHAR 14-15

पहाड़ 14-15: यात्रानुभव

पहाड़ की ओर से

कितनी राहों में, कितनी बार

हिमालय (तेजी से) गलेंगे तो हम हाथ मलेंगे

1974

केन्द्रीय व्यवस्था बदलने की प्रयोग भूमि           रघुवीर सहाय

युवा पीढ़ी की जय हो                          सुन्दर लाल बहुगुणा

मुसीबतों के पहाड़                             शेखर पाठक

जन से जुड़ने की यात्रा                         कुँवर प्रसून

कुछ मधुर स्मृतियाँ                            प्रताप शिखर

वे शुरुवाती दिन                               विजय जड़धारी

1975-1980

श्रीनगर से शिमला                             प्रभात उप्रेती

श्रीनगर से पिथौरागढ़                           प्रभात उप्रेती

पिण्डारी गल व रूपकुंड के बीच की जिन्दगी        शेखर पाठक

नेपाल से गुजरते हुए                           धूमसिंह नेगी

दानपुर में एक यात्रा                            नरेन्द्र रौतेला

1984

निकल गये दस साल, जरा बदला पर्वत का हाल       शेखर पाठक

जैसे फिर वही गाँव, फिर वही लोग, वही सपने….      देवेन्द्र मेवाड़ी

श्रीनगर से जागेश्वर                               नवीन जोशी

बोर बलड़ा-भरड़काण्डे से….!                        कमल जोशी

पहाड़ पर्यावरण पर एक दृष्टि                       अनिल जोशी

यात्रा कभी खत्म नहीं होती                        गोविन्द पंत ‘राजू’

उपरैंखाल से गोपेश्वर तक                          सचिदानन्द भारती

1994-2000

ऊखीमठ और बूढ़ा केदार के बीच                 चन्द्र शेखर भट्ट

गोपेश्वर से त्रिजुगीनारायण                       नन्द किशोर हटवाल

डायरी के पन्ने                                सतीश जोशी

अपने ही आसपास                             अरण्य रंजन

कमी से कमद                                 प्रेम पुनेठा

गदरा से श्रीनगर                               चण्डी प्रसाद भट्ट/ शेखर पाठक

अविस्मरणीय यात्रा के कुछ दिन                  गीता गैरोला

हरकी दून- टौंस क्षेत्रे                            प्रकाश पुरोहित ‘जयदीप’

अपने बीजों की खोज में                         कुँवर प्रसून

तराई यात्रा के संस्मरण                          त्रिलोचन चन्द्र पपनै

2004

इक्कीसवीं सदी में उत्तराखण्ड                     रघुवीर चन्द

नई सदी की पहली यात्रा                        गिरिजा पाण्डे

दुविधा में यात्री                                निरंजन सुयाल

हुडोली से आरारोट: एक संस्मरण                 अरण्य रंजन

इक्कीसवीं सदी में कुछ गाँव ऐसे भी              चन्द्रा भण्डारी/प्रीति थपरियाल

एक परदेशी के अनुभव                         डैन जैनसन

अंतिम दस दिन                              जीवन सिंह मेहता

अस्कोट आराकोट अभियान                     भगवती बोरा

वनस्पतियाँ और वन्य जीव                     अनूप साह

चार गाँवो6 की गहन पड़ताल                    ललित पंत

छोरीबगड़ से आरकोट तक                       रूप सिंह धामी

उफनती धरती के बीच                         अदिति चंद

कर्मी से कुआंरी                               रूपिन मैत्रेयी

गौला यात्रा                                   देवकी नन्दन भट्ट

अरे यात्राएं…….वाह!                           आशुतोश उपाध्याय/पूरन बिष्ट

गैरसैंण के इर्द गिर्द                            उमा भट्ट

फोटो एलबम

आंखन देखी                                  कमल जोशी, शेखर पाठक, नीरज पंत,

अनूप साह, डैन जैनसन

विशेष

श्वेत अन्धकार                             विष्णु प्रभाकर

मेरे हिस्से टूटना आया है                    लीलाधर जगूड़ी

येम्फुडिन से दार्चुला                        मलिका विर्दी

और अंत में

पहाड़ 13: सम्पत्तियाँ और समीक्षाएँ


Year Of Publication:
Book Type: ,
No. Of Pages:
Availability Status: ,
ISBN:
Price:

One response to “PAHAR-14-15”

  1. Varun

    I want to buy this book, how can I?

Leave a Reply

%d bloggers like this: